10 Killer Tricks for trading in Capital Market in hindi

शेयर बाज़ार में ट्रेडिंग के १० महत्वपूर्ण रणनीतियाँ

by Ankit Jaiswal on Hindi

शेयर बाज़ार में ट्रेडिंग के लिए बहुत सी रणनीतियाँ है बाजार में परन्तु यह आपको तय करना पड़ेगा की कौन सी रणनीति आपके लिए अच्छा काम करती है। ट्रेडिंग में कुछ भी सही या गलत नहीं होता, परन्तु यह जरुरी है की बात किस सन्दर्भ में हो रही है। ट्रेडिंग में सफल होने के लिए आपको अपने मानसिक स्थिरता और धैर्य बनाये रखने की काफी आवशकता है।

आज अपने शेयर बाजार में ट्रेडिंग के १० महत्वपूर्ण रणनीतियाँ पर चर्चा करेंगे जिससे आप अपनी ट्रेडिंग के अनुभव को सुधार सकते है-

१. बाज़ार के दिशा में ही ट्रेड करे

समय की अवधी बहुत ही महत्वपूर्ण किरदार अदा करती बाजार में ट्रेडिंग करने के लिए। मान लीजिये यदि आप लम्बे समय के निवेश का सोच रहे हो तो आपको  लम्बी अवधी की चार्ट में विश्लेषण करने की जरुरत है जैसे की मासिक चार्ट। वही दूसरी ओर यदि आप छोटे अवधी में ट्रेडिंग या निवेश का सोच रहे हो तो छोटी अवधी के चार्ट का विश्लेषण करे। इसलिए ट्रेंड को पहचानने के पहले आप अपने ट्रेडिंग की शैली को परखे की आपको इंट्राडे, स्विंग या पोसिशनल सौदे करने है।

Tricks-for-Successful-Trading

२. कम जोखिम वाले एंट्री को पहचाने अनुकूल रिस्क रिवॉर्ड के परिस्तिथि को देखते हुए

यह एक बहुत ही महत्वपूर्ण पहलु है जोखिम प्रबंधन (रिस्क मैनेजमेंट) की और यदि आपको बाजार में बने रहना हो तो  रिस्क रिवॉर्ड के बिच अच्छे संतुलन बनाये रखने की आवशयता है पुरे अनुशासन के साथ। इससे यह फायदा होगा की यदि आपके कुछ ट्रेड्स में नुकसान होता है तो आपके बाकी फायदे वाले ट्रेड्स उसको ढकने में सक्षम होंगे। उदहारण के तौर पर मन लीजिये आप यदि १:२ रिस्क रिवॉर्ड रेश्यो में काम कर रहे है, तो यदि आपके ४ ट्रेड में नुकसान हो जाये, तो भी आप ८ रुपये कमाकर घर ही जायेंगे।

३. एक ट्रेडिंग मेथोडोलॉजी होना काफी जरुरी है

विभिन्न इंडीकेटर्स के माध्यम से एक ट्रेडिंग मेथोडोलॉजी को तैयार करे और उसे बैक टेस्ट करे किसी एल्गो या केवल अपनी आँखों से एक लम्बे समय के लिए।

शेयर बाजार में कुछ भी सही या गलत नहीं होता, बल्कि आपको ट्रायल एंड एरर करते रहना होगा जिससे आप नए ट्रेडिंग मेथोडोलोग्य बनाये और जो आपके स्टाइल को सूट करे और उसे अपने ट्रेडिंग में इस्तेमाल करने में सफल हो।

४. एक बार ट्रेडिंग सेटअप बनाने के पश्चात, उसका पालन करे

ट्रेडिंग सेटअप बनने के बाद उसे एकदम निष्ठा से पालन करे और ३-४ असफलता के कारण हिम्मत न हारे। आपको अपने बनाये ट्रेडिंग सेटअप पर भरोसा होने अति आवशयक है और हार मैंने के वजाये आपको विश्लेषण करना चाहिए की कहा आखिर आप गलत जा रहे हो और उसे सुधरने का प्रयास करे।

और पढ़े: 10 habits of highly successful investor in hindi

५. अपनी ट्रेड्स की समीक्षा करने के लिए एक ट्रेडिंग जर्नल बनाये

आपकी ट्रेड्स का विश्लेषण करने के लिए, ट्रेडिंग जर्नल एक अहम भूमिका निभाती है। इससे आप अपनी ट्रेडिंग हिस्ट्री को निकल सकते है और विश्लेषण कर सकते है कि कहा आप गलती कर रहे है ताकि अगली बार वह गलती ना दोहराये।

६. कभी भी अपनी ट्रेडिंग के पूंजी के १-२ प्रतिशत से ज्यादा एक ट्रेड में जोखिम न डाले

यदि आपको बाज़ार में बने रहना है, तो १-२ प्रतिशत नुकशान से ज्यादा ना खोये एक ट्रेड में। यदि आपके ट्रेडिंग सेटअप में सफलता की दर ६०-७० प्रतिशत है, तो भी यह कोई बड़ी बात नहीं है की ८-९ लूसिंग ट्रेड नहीं होगी।

trading in stock market

७. ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए, अपनी स्टॉपलॉस को ट्रेल करे

यदि आपका अकाउंट अनुमति देता है तो ज्यादा लॉट्स में ट्रेड करे ताकि आप बड़ा मुनाफा निकाल सके यदि ट्रेड आपके अनुसार हो। अच्छा मुनाफा कमाने के लिए आपको अपनी स्टॉपलॉस को ट्रेल करना काफी आवशयक है। इससे यह फायदा होगा की यदि आप सही हुए तो अच्छा मुनाफा घर ले जाओगे परन्तु गलत पड़ने पर ज्यादा नुकसान नहीं सहना पड़ेगा।

८. हमेशा दो विभन्न्न टाइम फ्रेम में काम करे

चाहे आप इंट्राडे, स्विंग या पोसिशनल ट्रेडर हो, थोड़ी बड़ी टाइम फ्रेम को साथ रखकर विश्लेषण करने से अधिक स्पष्टता हासिल होती है। जैसे की यदि आप इंट्राडे ट्रेडर हो और आप १५ मिनट के ट्रेडर में काम करते हो, तो आप साथ में १ घंटे या ४ घंटे को साथ रखकर विश्लेषण कर सकते है।  उसी प्रकार, यदि आप स्विंग ट्रेडर हो तो आप डेली और वीकली चार्ट के हिसाब से काम कर सकते है।

९. स्टॉपलॉस को दिमाग में न रखकर कर उसी एक सही ऑर्डर ने रखे

शेयर बाजार में अनुशासन एक अहम भूमिका अदा करती है और इसी कारणवश ज्यादातर ट्रेडर पैसे बनाने में सफल नहीं होता शेयर बाज़ार में। लोग स्टॉपलॉस को न लगा कर उसे दिमाग में ही रखते है और जैसे ही विपरीत चाल शुरू होने लगता है, वे काटने में सफल नहीं हो पाते और इसी आशा में रहते है की जैसे ही उनके भाव तक आएगा तोह वह निकल जायेंगे। और ज्यादातर समय लोग इससे लोस के तले दबे रहते है।

१०. ऐसे इंस्ट्रूमेंट्स चुने जो बाज़ार के ट्रेंड के बिना ही चले

ज्यादातर शेयर्स, बाज़ार के चाल के अनुसार ही काम करते है तो ऐसे शेयर्स या इन्वेस्टमेंट क्लास चुने जिनका खुद का अपना चाल हो। इससे आप का किया गया विश्लेषण अच्छा काम करता है और यह बाज़ार के चल से प्रभाभित नहीं होता।

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Disclaimer

Publications at Elearnmarkets.com are prepared to deliver general academic information. It does not intend to provide any professional advice relating to any situation or content. Nothing is explicitly or implicitly guaranteed with respect to the information provided herein.

Speak Your Mind

*